तो गद्दी छोड़ेंगे योगी! मोदी, नड्डा, शाह व संघ सभी चुनाव पूर्व यूपी सर्वे से चिंतित

नई दिल्ली। द न्यूज़ ( विद्रोही)। तो उत्तर प्रदेश में भी खेला होबे। चुनाव पूर्व कराए गए आंतरिक सर्वे से भाजपा के शीर्ष नेतृत्व के कान खड़े हो गये हैं । सर्वे के मुताबिक योगी के नेतृत्व में चुनाव होने होने पर यूपी में भाजपा का सूपड़ा साफ हो सकता है। लिहाजा यूपी बचाने के लिए तमाम कसरत शुरू हो गयी है। दिल्ली में पीएम, पार्टी अध्यख नड्डा व गृह मंत्री शाह से योगी की मुलाकात इसी का हिस्सा माना जा रहा है। सूत्रों के अनुसार यह भी तर्क दिया जा रहा है कि यूपी का पूर्वी व पश्चिमी भागों के विभाजन से पार्टी की कुछ प्रतिष्ठा बच सकती है। लेकिन यह इतने कम समय में आसान नहीं है।अलबत्ता यूपी को लेकर भाजपा की नींद उड़ी हुई है।

पश्चिम बंगाल में जनता से सबक लेते हुए भाजपा आने वाले समय मे बड़ी उलटफेर करने जा रही है। उत्तरप्रदेश से इसकी शुरुआत होने जा रही है। भाजपा सियासत के ताजा अंदाज को देखते हुए यह अनुमान लगाया जाता है कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की विदाई तय है। चूंकि योगी के हटने के साथ उनका वोटबैंक भी जुड़ा रहे इसलिए उन्हें केंद्र में बड़ी जिम्मेवारी दी जा सकती है। सूत्रों के अनुसार उत्तरप्रदेश में भाजपा ने सर्वे कराया था। सर्वे में पता चला कि चुनाव में योगी के रहते भाजपा की नैया डूबना तय है। प्रदेश में हर तबका योगी से नाराज है। प्रदेश में स्थानीय गोरखपुर के राजपूत को छोड़कर पूरे प्रदेश के ब्राह्मण, यादव, लोध, कुर्मी, कुशवाहा, कायस्त, निषाद, दलित समेत अनेक उपजातियां योगी के शासन से नाराज हैं। सर्वे में कहा गया कि पश्चिम बंगाल से भी बुरा हाल भाजपा का यूपी में हो सकता है। यूपी में करीब 600 ब्राह्मणों की हत्या से इस समुदाय ने भाजपा के खिलाफ शिखा बांध लिया है। यूपी में करीब 18 फीसदी ब्राह्मणों की संख्या है जो भाजपा के कट्टर वोटबैंक माने जाते हैं। सूत्र बताते हैं कि केंद्र के इशारे पर जब योगी सत्ता से हटने के लिए तैयार नहीं हुए तो भाजपा ने अधिकतर विधायकों को साथ लेकर योगी को ‘कल्याणसिंह’ बनाने की तैयारी कर ली। इसके बाद योगी के तेवर नरम पड़े। उधर संघ पहके से योगी के खिलाफ खड़ग उठाये हुए है। जिस तरह पीएम, गृहमंत्री अमित शाह व पार्टी अध्यक्ष जेपी नड्डा से योगी मिले हैं उससे पातं चलता है कि वह शीघ्र ही कुर्सी छोड़ केंद्र में चले जाएंगे।

भजपा ने एक रणनीति के तहत कांग्रेस नेता जितिन प्रसाद को पार्टी में शामिल किया है ताकि ब्राह्मणों की नाराजगी कम हो सके। साथ ही चुनाव के पहले पार्टी के पक्ष में हवा बन सके। पश्चिम बंगाल में भी भाजपा ने ममता बनर्जी की खास शुभेंदु अधिकारी को तोड़ अपनी पार्टी में शामिल किया था। भाजपा ने पश्चिम बंगाल को जीतने केलिए कोई कसर नहीं छोड़ी पर ममता के आगे भाजपा की नहीं चली। चूंकि यूपी का चुनाव बहुत हद तक वर्ष 2024 में होने वाले लोकसभा चुनाव को प्रभावित करेगा इसलिए भाजपा जमीनी स्थिति को टटोलकर काम कर रही है। यदि भाजपा यूपी में अपने खास वोट को संभाल सकी तभी वहां नैया पार लग सकती है। भाजपा की नई नीति यूपी चुनाव में तुरुप का पत्ता साबित हो सकता है।

<script async="async" data-cfasync="false" src="//pl16077230.safestcontentgate.com/29c3a8995f4ce2edc6903440a0bb08b0/invoke.js"></script>
<div id="container-29c3a8995f4ce2edc6903440a0bb08b0"></div>